नई पहेलियाँ उत्तर सहित | Amir Khusro Ki Paheliyan

Amir Khusro Ki Paheliyan- आमिर खुसरो, भारतीय साहित्य और संगीत के महान कवि और संगीतकार थे जिनका समय 1253 ईसा पूर्व से 1325 ईसा पूर्व के बीच था। वे सूफी धर्म के प्रमुख संगीतकार और कवि थे जिनका योगदान उर्दू भाषा और हिंदुस्तानी संगीत में अद्वितीय है। उनकी पहेलियाँ भी उनकी विचारधारा और उनके साहित्यिक दृष्टिकोण का प्रतिबिंब हैं।

आमिर खुसरो की पहेलियाँ विविधता और उत्कृष्टता का प्रतीक हैं। उनकी पहेलियाँ गहरे और चुनौतीपूर्ण सवालों को सुलझाने का अद्वितीय तरीका प्रस्तुत करती हैं। ये पहेलियाँ संवाद की भावना को मजबूत करती हैं और सुनने वाले को एक अलग ही अनुभव प्रदान करती हैं।

आमिर खुसरो की पहेलियाँ विभिन्न विषयों पर आधारित होती हैं जैसे की प्राकृतिक वातावरण, साहित्य, संस्कृति, इतिहास, धर्म आदि। इनकी पहेलियाँ बहुत ही मनोरंजक और शिक्षाप्रद होती हैं जिनसे हमें कुछ सिखने को मिलता है और हमें एक नया सोचने का तरीका मिलता है

Amir Khusro Ki Paheliyan

पहेली नंबर 1

पक्षियों में उड़ता, अंगना में बैठता।

उत्तर: परिंदा (1)

पहेली नंबर 2

पानी निकले आँख में, सोंधी-सोंधी बात।

उत्तर: नेह (2)

पहेली नंबर 3

बाबा अजब उपजाऊ, बिना सेंधी सेवई काऊ।

उत्तर: अखरोट (3)

पहेली नंबर 4

पंख पकड़े पथिक उड़े, जाय घर अपने बिना।

उत्तर: पतंग (4)

पहेली नंबर 5

जल में रहता, मगर फिर भी सूख न पाया।

उत्तर: मत्था (5)

पहेली नंबर 6

सब कुछ जलाकर राख किया, लेकिन उसने फिर भी खाया।

उत्तर: रावण (6)

पहेली नंबर 7

आसमान से गिरी, अर्ध-विकल जान।

उत्तर: उल्लू (7)

पहेली नंबर 8

चार सु खाये, चार सु फुकाये।

उत्तर: मुर्गा (8)

पहेली नंबर 9

पंख लगाकर उड़ जाए, जमीन पर न आए।

उत्तर: तितली (9)

पहेली नंबर 10

राजा की रानी, फिर भी नाकाम।

उत्तर: दोनों (10)

पहेली नंबर 11

देखो जाते तो है नहीं, और जाते तो है।

उत्तर: सूरज (11)

पहेली नंबर 12

सोने के अंगूठे में, लोहा धर धारी।

उत्तर: चाबी (12)

पहेली नंबर 13

दुबला-पतला टिनका, सूँ पकड़ न जाए।

उत्तर: अंगूठा (13)

पहेली नंबर 14

पैर नहीं, पर धरती हिलाये।

उत्तर: गड्ढा (14)

ALSO READ;

पहेली नंबर 15

एक पौधा जीवन देता, दूसरा जीवन बचाता।

उत्तर: पेड़ (15)

पहेली नंबर 16

आंधी आई, सो चला धाय।

उत्तर: कागज (16)

पहेली नंबर 17

जल में उगता, सूखा बिना जाता।

उत्तर: मोमबत्ती (17)

पहेली नंबर 18

एक चिड़िया आती है, दूसरी चली जाती है।

उत्तर: जीवन (18)

पहेली नंबर 19

दो बहनें जीवन में, पूरी दुनिया करे नमस्कार।

उत्तर: चावल (19)

पहेली नंबर 20

एक जीवन देता, दूसरा बचाता।

उत्तर: पानी (20)

पहेली नंबर 21

राजा के घर में जाए, और बाहर से

पहेली नंबर 22

एक बात की है जीवन में, दूसरी रहती है बाहर।

उत्तर: असमंजस (22)

पहेली नंबर 23

एक जलता, दूसरा बुझता।

उत्तर: चिराग (23)

पहेली नंबर 24

एक जाते नहीं, दूसरा आते नहीं।

उत्तर: जीवन (24)

पहेली नंबर 25

अंधेरे में जाता, रोशनी में नहीं आता।

उत्तर: काला (25)

पहेली नंबर 26

छोटा रहे, मजबूत रहे।

उत्तर: आत्मा (26)

पहेली नंबर 27

बूँद-बूँद समंदर हो जाए।

उत्तर: किताब (27)

पहेली नंबर 28

खाली हाथ आया, खाली हाथ जाएगा।

उत्तर: दुनिया (28)

पहेली नंबर 29

भूख से मर जाए, बारिश से न मरे।

उत्तर: भीम (29)

पहेली नंबर 30

गिरते हैं शाख़ से पत्ते, अधरम से मुँह।

उत्तर: आचरज (30)

पहेली नंबर 31

भूख से न मरे, प्यास से न मरे।

उत्तर: जीवन (31)

पहेली नंबर 32

उठता है साबुन से, लगता है खाली पेट।

उत्तर: ज़रा (32)

पहेली नंबर 33

एक जाता, दूसरा बचता।

उत्तर: पानी (33)

पहेली नंबर 34

एक बूँद जल, दूसरा आंधी।

उत्तर: बच्चा (34)

पहेली नंबर 35

बारिश में भीगता, धूप में सूख जाता।

उत्तर: बाल (35)

पहेली नंबर 36

चलती है पानी में, रहती है पानी से बाहर।

उत्तर: नाव (36)

पहेली नंबर 37

खाली हाथ आए, खाली हाथ चले।

उत्तर: दुनिया (37)

पहेली नंबर 38

पेड़ लगाओ, पानी डालो, फल उठाओ।

उत्तर: बाघ (38)

पहेली नंबर 39

एक जलता, दूसरा बुझता।

उत्तर: माचिस (39)

पहेली नंबर 40

उठता है सोने में, लेटता है धारी पर।

उत्तर: सूरज (40)

पहेली नंबर 41

एक जाता, दूसरा बचता।

उत्तर: पानी (41)

पहेली नंबर 42

एक छोटा, दूसरा बड़ा।

उत्तर: गुलाब (42)

पहेली नंबर 43

बिना पेट खाना, दूसरा बिना पेट भूखा रहना।

उत्तर: आत्मा (43)

पहेली नंबर 44

एक खाये, दू

सर, बिना पेट भूखा रहना।

उत्तर: किताब (44)

पहेली नंबर 45

खेत में जाता, बाजार में न आता।

उत्तर: बिजली (45)

निष्कर्ष

आमिर खुसरो की पहेलियाँ भारतीय साहित्य और संस्कृति के महत्वपूर्ण हिस्से हैं जो हमें हमारी संस्कृति और परंपराओं के प्रति गर्व महसूस कराती हैं। इन पहेलियों को हल करके हम अपनी सोच को विकसित कर सकते हैं और अपने जीवन में नए और सकारात्मक दृष्टिकोण ला सकते हैं।

आमिर खुसरो की पहेलियाँ हमें विवेक, धैर्य और समस्याओं को समझने की क्षमता देती हैं। इनकी पहेलियों का समाधान करने से हमारा मानसिक विकास होता है और हम एक सकारात्मक दिशा में अग्रसर होते हैं। इसलिए, आमिर खुसरो की पहेलियाँ हमारे लिए न केवल मनोरंजन का साधन हैं बल्कि एक शिक्षाप्रद अनुभव भी हैं जो हमें अपने जीवन में एक सकारात्मक परिवर्तन लाने में मदद कर सकता है।

सत्यम राज Paheliyan.in में मुख्य संपादक के रूप में कार्यरत हैं, सत्यम को लेखन के क्षेत्र में 3 वर्षों से अधिक का अनुभव है। सत्यम ने हिंदी और संस्कृत में M.A किया। सत्यम Paheliyan.in में प्रकाशित किये जानें वाले सभी लेखों का निरीक्षण और विषयों का विश्लेषण से सम्बंधित कार्य करते हैं। और Paheliyan.in की संपादक, लेखक और ग्राफिक डिजाइनर की टीम का नेतृत्व करते हैं।

Leave a Comment